राज्य

प्रदेश की खबरें-विधानसभा का मानसूत्र सत्र शुरू

Posted by khalid on




1 विधानसभा का मानसूत्र सत्र शुरू हो गया है। सदन के शुरू होते ही कांग्रेस के आक्रामक तेवर देखने मिले हैं। सभी कांग्रेसी विधायक नारे लगाते हुए सदन में घुसे हैं। विधायक भाजपा सरकार से पांच साल का हिसाब दो के नारे लगा रहे हैं।सदन शुरू होते ही दिवंगत विधायकों को श्रद्धांजलि दी जाएगी। इसके बाद सदन की कार्यवाही शुरू होगी। सत्र शुरू होने से संसदीय कार्यमंत्री ने मीडिया से कहा कि जैसा कांग्रेस का गाना होगा वैसा ही भाजपा का बजाना होगा।

2 जबलपुर में रानी दुर्गावती के बलिदान दिवस पर आयोजित आदिवासी सम्मेलन में मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने नर्रई पहुंचकर वीरांगना के समाधि स्थल पर पुष्पांजलि अर्पित की। इस अवसर पर श्री चौहान ने वीरांगना की प्रतिमा पर भी माल्यार्पण किया तथा महाकौशल क्षेत्र के नौ जिलों से आए आदिवासी समाज के प्रमुखों का शाल और श्रीफल भेंटकर सम्मान किया।

3 राज्यपाल आनंदीबेन पटेल से आज राजभवन में ओरियंटल ग्रुप आफ इन्स्टिट्यूट द्वारा 24 मई से 22 जून तक निकाली गई टीबी रोग जागरूकता अभियान वाहन रैली के डाक्टरों और पदाधिकारियों ने राजभवन में भेंट की। इस अवसर पर ओरियंटल ग्रुप आफ इन्स्टिट्यूट के चेयरमेन श्री प्रवीण ठकराल, रेली के संयोजक सीइओ राजेश साहनी तथा वरिष्ट डाक्टर उपस्थित थे।

4 नवगठित आनंद विभाग के तहत प्रदेशभर में धूमधाम से खोले गए आनंदम् केन्द्रों (आनंद की दीवार) को चलाने में सामाजिक संस्थाओं की अरुचि देख सरकार ने उन्हें बंद करने का फैसला कर लिया है। राजधानी में प्रारंभ से ही ठप पड़े चार केन्द्रों को औपचारिक तौर पर तालाबंदी का निर्णय हो गया है। इसी तरह जिलों में खोले गए ज्यादातर केन्द्र भी ठप हैं।मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान के इस महत्वाकांक्षी प्रोजेक्ट में सामाजिक संस्थाओं ने दिलचस्पी नहीं दिखाई।

5 चुनावी साल में दोनों ही पार्टियां इलेक्शन मोड में आ गई है। एक तरफ बीजेपी अपनी योजनाओं और घोषणाओं का बखान करने 14 जुलाई से जन आर्शीवाद यात्रा निकालने जा रही है वही दूसरी तरफ कांग्रेस जून के अंत में पोल-खोल अभियान चलाने जा रही है। इसमें कांग्रेस शिवराज सरकार के शिवराज सरकार के झूठे वादे , घोषणाओं , योजनाओं , उनकी वास्तविकता व पिछले 14 वर्ष की भाजपा सरकार में विकास व योजनाओं की क्या स्थिति है , उसका ख़ुलासे करेगी। इस अभियान के माध्यम से प्रदेश के हर स्थिति के आँकड़े भी जुटाए जाएंगे, जिन्हें जनता के बीच रखा जाएगा।