राज्य

प्रदेश एक्सप्रेस

Posted by khalid on



1 शुक्रवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी इंदौर के बोहरा समाज के कार्यक्रम में पहुंचे । इस कार्यक्रम में पीएम मोदी का जमकर स्वागत सत्कार किया गया। वही कार्यक्रम के दौरान प्रधानमंत्री ने भी बोहरा समाज योगदान कि तारीफ की। प्रधानमंत्री ने कहा कि बोहरा समाज ने देश दुनिया को शांति का पैगाम दिया है। बोहरा समाज शांति का संदेश देता है ए शिक्षा व्यवस्था में बोहरा समाज का अहम योगदान है . वही प्रधानमंत्री ने जनसभा से अपील भी की कि कल से शुरू हो रहे ष् स्वच्छता ही सेवा पखवाडा ष् में सम्मिलित होकर अपना योगदान दें।

2 वहीं दूसरी और इंदौर के बोहरा समाज कार्यक्रम में प्रधानमंत्री मोदी के साथ मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान भी शामिल हुए . मुख्यमंत्री शिवराज ने भी बोहरा समाज को सबसे ज्यादा मददगार बताया ण् मुख्यमंत्री ने कहा कि ऐसा अनुशासित ऐसा समर्पित अगर कोई समाज है तो वह दाऊदी बोहरा समाज है । वही उन्होंने मुस्लिम धर्मगुरु सैयदना साहब की तारीफ की । उन्होंने कहा की मुझे यह स्वर्गीय सैयद आना साहब से मिलने सौभाग्य मिला था . मैं उज्जैन में उनके दर्शन करने गया था , वो पल आज भी मेरे लिए अछि याद है .

3 एट्रोसिटी एक्ट को लेकर जहां एक तरफ मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान का विरोध किया जा रहा है , वहीं बाकी अन्य नेताओं का भी विरोध हो रहा है . इसके चलते शुक्रवार को दिग्विजय सिंह मंदसौर पहुंचे . जहां उन्हें भी जनता के विरोध का सामना करना पड़ा . सपाक्स और करणी सेना के कार्यकर्ताओं ने काळा झंडे दिखाकर विरोध प्रदर्शन किया . वही मीडिया से चर्चा के दौरान दिग्विजय सिंह ने बीजेपी पर जमकर आरोप लगाए . दिग्विजय सिंह ने कहा कि बीजेपी ने सवर्णों को धोखा दिया है।

4 मध्यप्रदेश की राजधानी में एक बार फिर शेटर होम कांड सामने आया है। इस बार मूक-बधिर बच्चों के साथ यौन उत्पीड़न का मामला सामने आया है। आरोपी भोपाल का रहने वाला है और उसके दो अनाथ आश्रम हैं, जिनमें से एक बैरागढ़ में है और दूसरा होशंगाबाद में। बताया जा रहा है हास्टल संचालक युवतियों के साथ साथ युवकों का भी यौन शोषण करता था। पुलिस ने शिकायत के बाद आरोपी को गिरफ्तार कर लिया है। इस मामले में कांग्रेस मीडिया अध्यक्ष शोभा ओझा ने प्रेस कांफ्रेस कर कहा कि इस आरोपी संचालक के होशंगाबाद स्थित हास्टल में रहने वाली मूखबाधिर युवतियों ने २०१७ में जिला कलेक्टर से इस बारे में शिकायत की थी। जिसके बाद के होशंगाबाद स्थित हास्टल को बंद कर दिया गया था उन्होने सवाल उठाए कि इस कार्यवाही के बाद भी सामाजिक न्याय मंत्रालय ने इस पर एफआईआर दर्ज क्यों नहीं करवाई ।

5शुक्रवार को भोपाल में आयोजित कार्यक्रम के तहत चुनाव ड्यूटी में लगे अफसरों के तबादले पर निर्देश दिए गए हैं कि बिना अनुमति के अफसरों के तबादले नहीं हो सकेंगे . इस मामले में मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी वि .एल .कांता राव का कहना है कि जो चुनाव में लगे अधिकारी हैं जैसे कलेक्टर , रिटर्निंग ऑफिसर, इन सब का ट्रांसफर चुनाव के समय नहीं हो सकता है .