राज्य

प्रदेश की खबरे - वित्तीय संकट से जूझ रही मप्र सरकार की चुनावी साल में हालात खराब होती जा रही है

Posted by Divyansh Joshi on



1
वित्तीय संकट से जूझ रही मप्र सरकार की चुनावी साल में हालात खराब होती जा रही है। साथ ही मुख्यमंत्री द्वारा की गई तमाम घोषणाएं चुनाव से पहले समय पर पूरी होती नहीं दिख रही हैं। साथ ही निकट भविष्य में सरकार नया फैसला करने वाली है। इस मसले पर चर्चा के लिए मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान सोमवार को सभी विभागों के अपर मुख्य सचिव, प्रमुख सचिव एवं सचिव स्तर के अफसरों को बुलाया है। चालू साल में सरकार अभी तक 60 हजार करोड़ से ज्यादा की घोषणाओं का ऐलान कर चुकी हैं, जिनमें से ज्यादातर योजनाएं एवं घोषणाओं का क्रियान्वयन चुनाव से पहले करना है।

2
कुछ दिन पूर्व ही छिंदवाड़ा से देवास के पुलिस अधीक्षक बनाए गए गौरव तिवारी को अब रतलाम का पुलिस अधीक्षक बनाया गया है।प्रदेश शासन के गृह विभाग ने रविवार को उनके तबादला आदेश में संशोधन कर दिया। वहीं देवास से रतलाम पुलिस अधीक्षक बनाकर भेजे गए अंशुमान सिंह देवास में ही रहेंगे। गृह विभाग की उप सचिव अजीजा सरशार जफर ने रविवार को दोनों एसपी का तबादला आदेश जारी किया।

3
मध्य प्रदेश में ऊंचाई कम होने के कारण पुलिस में भर्ती में विवाद अब थमने जा रहा है। सरकार महिलाओं को लंबाई में पांच सेमी की छूट देने जा रही है।इसको लेकर गृह विभाग ने पूरी तैयारियां कर ली है और मंगलवार को होने वाली कैबिनेट बैठक में प्रस्ताव रखा जाएगा।हालांकि बैठक सोमवार को होनी थी लेकिन कुछ कारणों के चलते इसे अब मंगलवार को रखा गया है।

4
भारतीय जनता पार्टी ने अब फेसबुक पर अपने पेज के लाइक बढ़ाने की जिम्मेदारी जिलों में काम कर रहे कार्यकर्ताओं को सौंपी है। 46 नेताओं की टीम जब जिलों में बैठक लेने जा रही है तो पार्टी कार्यकर्ताओं और सोशल मीडिया से जुड़े कार्यकर्ताओं को विशेष निर्देश दिए जा रहे हैं। उनसे कहा जा रहा है कि प्रदेश भाजपा के एमपी फॉर बीजेपी पेज की लाइक संख्या बढ़ाई जाए, ताकि इसी पेज के जरिए ज्यादा से ज्यादा लोगों तक बात पहुंचाई जा सके।

5
मप्र कांग्रेस कमेटी द्वारा तीन महीने पहले बनाए गए असंगठित कामगार कांग्रेस संगठन के प्रत्येक सदस्य को अपने-अपने शहर के 10-10 कामगारों को संगठन से जोड़ने का लक्ष्य दिया गया है। यह संकल्प प्रदेश कांग्रेस कार्यालय में रविवार को आयोजित असंगठित कामगार कांग्रेस के सम्मेलन में पीसीसी अध्यक्ष कमलनाथ ने दिलवाया है। बीते तीन महीने में घरों में काम करने वाली महिलाओं से लेकर अन्य असंगठित मजदूरों को संगठन से जोड़ा गया है।