राज्य

एम.पी.लाइव

Posted by khalid on



मुख्यमंत्री श्री कमल नाथ ने नई दिल्ली की पूर्व मुख्यमंत्री एवं कांग्रेस की मूर्धन्य नेता श्रीमती शीला दीक्षित के निधन पर शोक व्यक्त किया है। श्री कमल नाथ ने शोक संदेश में कहा कि नागरिक सुविधाओं की दृष्टि से नई दिल्ली का कायाकल्प करने में श्रीमती शीला दीक्षित के योगदान को हमेशा याद रखा जाएगा। मुख्यमंत्री ने दिवंगत आत्मा की शांति और शोकाकुल परिजनों को यह दु:ख सहने की शक्ति देने की ईश्वर से प्रार्थना की है।

मुख्यमंत्री श्री कमल नाथ ने पत्रकारों से कहा है कि निष्पक्षता के साथ निडर होकर सरकार से प्रश्न पूछें और आलोचना भी करें। श्री नाथ यह बात माखनलाल चतुर्वेदी राष्ट्रीय पत्रकारिता एवं संचार विश्वविद्यालय के "उत्कृष्टता की ओर सत्रारंभ 2019" का शुभारंभ के दौरान कही । उन्होंने पत्रकारिता के विद्यार्थियों से कहा कि वे अपने पेशे का सम्मान करें और इसकी शपथ भी लें।

मुख्यमंत्री श्री कमल नाथ ने माखनलाल चतुर्वेदी राष्ट्रीय पत्रकारिता एवं संचार विश्वविद्यालय के शिक्षकों को सातवाँ वेतनमान, विश्वविद्यालय के अध्ययन संस्थान में पढ़ने वाले अनुसूचित जाति-जनजाति के विद्यार्थियों को छात्रवृत्ति और कर्मचारियों के बीमा में विश्वविद्यालय द्वारा अंशदान देने की घोषणा की। उन्होंने कहा कि विश्वविद्यालय को उत्कृष्ट बनाने का जो संकल्प लिया है, उसमें सरकार पूरा सहयोग देगी। उन्होंने उम्मीद जताई कि पत्रकारिता विश्वविद्यालय से निकलने वाला हर विद्यार्थी स्वतंत्र और निष्पक्ष पत्रकार बनकर अपने विश्वविद्यालय की प्रतिष्ठा को स्थापित करेगा।

मुख्यमंत्री श्री कमल नाथ ने राजधानी भोपाल स्थित मिंटो हाल में एडवोकेट प्रोटेक्शन एक्ट पर परिचर्चा को संबोधित करते हुए कहा कि एडवोकेट प्रोटेक्शन एक्ट लाने का वादा सरकार ने किया था और इसे अवश्य पूरा करेगी। जल्दी ही कैबिनेट में इसे और ज्यादा सक्षम बनाने पर विचार कर अंतिम रूप दिया जायेगा। उन्होने वकीलों की माँग के जवाब में कहा कि यदि वे अपनी हाउसिंग सोसायटी बनाते हैं तो सरकार उन्हें सभी जरूरी सुविधाएँ उपलब्ध करायेगी।

विधि एवं विधायी कार्य मंत्री श्री पी.सी. शर्मा ने वकीलों का स्वागत करते हुए कहा एडवोकेट प्रोटेक्शन कानून के मसौदे पर सम्पूर्णता से विचार किया जा रहा है। वकीलों की सुरक्षा के हर मुददे को शामिल किया जा रहा है ताकि यह एक आदर्श कानून बने। उन्होंने बताया कि वकीलों का बीमा और उन्हें पेंशन देने जैसे मुद्दों पर भी विचार चल रहा है। जल्दी ही ठोस परिणाम सामने आयेगा। उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री के मार्गदर्शन में हर वचन पूरा होगा। राज्य सभा सदस्य श्री विवेक तन्खा ने एक्ट की पृष्ठभूमि पर प्रकाश डाला। परिचर्चा में एडवोकेट जनरल श्री शशांक शेखर एवं विभिन्न जिलों से आये सीनियर एडवोकेट उपस्थित थे।