राज्य

प्रदेश की खबरें 08-04-21

Posted by khalid on





प्रदेश में बढ़ते कोरोना संक्रमण के बीच ऑक्सीजन और रेमडेसिविर के इंजेक्शन की कमी से हालात बदतर हो रहे हैं। ऑक्सीजन की कमी से 48 घंटे में सागर में 4 और खरगोन में 1 कोरोना मरीज की मौत हो गई। ऑक्सीजन की कमी को पूरा करने के लिए राज्य सरकार ने भिलाई स्टील प्लांट से करार किया है। हर रोज प्लांट से 60 टन ऑक्सीजन की सप्लाई होगी। इस बीच पिछले 24 घंटे में पूरे एमपी में कोरोना से 13 मरीजों की मौत हुई है।


अवैध रेत माफिया इस कदर हावी हैं कि उनके खौफ से करोड़ों का राजस्व देने वाले ठेकेदार अब काम समेटने लगे हैं। तीन जिलों रायसेन, आलीराजपुर और मंदसौर के रेत ठेकेदारों ने किस्तें भरने से इनकार कर दिया है, जिसके चलते सरकार को 91 करोड़ रु. की खदानों के ठेके निरस्त करने पड़े। अभी 15 जिलों के ठेकेदार नियमित किस्तें जमा नहीं कर रहे हैं, क्योंकि ये भी खदानें छोड़ने की तैयारी में हैं।

हमीदिया अस्पताल के जूनियर डॉक्टर अपनी मांगों को लेकर गुरुवार से सांकेतिक हड़ताल पर चले गए। हालांकि मरीजों के इलाज में कोई दिक्कत न हो इसको लेकर डॉक्टरों ने 10 विभागों की अस्पताल परिसर में ही ओपीडी लगाई। जहां जूनियर डॉक्टर मरीजों को देख रहे है।

छिंदवाड़ा में 7 दिन के लिए गुरुवार रात 8 बजे से लॉकडाउन लागू हो जाएगा। इसकी घोषणा होने के बाद जिले के प्रमुख बाजारों में बुधवार शाम से ही खरीदारी के लिए लोगों की भारी भीड़ उमड़ पड़ी। लोग बाजार की ओर निकल पड़े। अचानक बढ़ी इस भीड़ और लॉकडाउन की वजह से बाजार में सब्जी और अन्य जरूरत के सामान व्यापारियों ने महंगे दामों पर बेचा। सब्जी दो से तीन गुना महंगी तक बिकीं।

राजधानी भोपाल में कोरोना गाइडलाइन का पालन न करने वालों के खिलाफ अब भोपाल में सख्ती शुरू हो गई है. बुधवार रात जिले के आला अधिकारियों ने शहर में घूम-घूम कर हालात का जायजा लिया और मास्क और सोशल डिस्टेंसिंग का पालन न करने वालों के खिलाफ कार्रवाई की. शहर की कुल 158 दुकानें सील कर दी गईं


प्रदेश में लोगों को अगले दो दिन गर्मी से थोड़ी राहत मिल सकती है। मौसम विभाग ने पूर्वी मध्य प्रदेश में अगले 48 घंटे में बादल छाने के साथ हल्की बारिश की संभावना जताई है। इसके अलावा राजधानी समेत आसपास के इलाकों में गुरुवार शाम तक बादल छाने का अनुमान जताया है। बारिश की आशंका से किसान परेशान हैं। खेतों में गेहूं की फसल या तो कट गई है या कटने के लिए तैयार है।