प्राइम टाइम

प्राइम टाइम

Posted by Divyansh Joshi on



कोलकाता पुलिस कमिश्नर राजीव कुमार के घर छापा मारने पहुंची सीबीआई टीम को कोलकाता पुलिस ने अरेस्ट कर लिया. इसके बाद से कोलकाता से दिल्ली तक संग्राम जारी है. विपक्ष इसे लोकतंत्र की हत्या करार दे रहा है. वहीं सत्ताधारी बीजेपी इसे सूबे की सीएम ममता बनर्जी की तानाशाही बता रही है केंद्रीय क़ानून मंत्री रविशंकर प्रसाद ने कहा ममता बनर्जी ने अरविंद केजरीवाल से धरने पर बैठने की प्रेरणा ली है.प्रसाद ने कहा कि श्श्आख़िर पुलिस कमिश्नर राजीव कुमार में ऐसी क्या बात है कि उससे पूछताछ होने भर से धरने पर बैठ गईं. जो ममता अपने मंत्रियों की गिरफ़्तारी पर चुप रहीं वो एक पुलिस कमिश्नर से पूछताछ भर से धरने पर बैठ गईं. ज़ाहिर है राजदार बहुत कुछ जानता है इसलिए ममता परेशान हैं.श्श्वहीं ममता बैनर्जी इसे आपातकाल जैसी स्थिती बता रही है उनका कहना है कि सीबीआई ने बिना राज्य सरकार से इजाजत लिए बिना सीबीआई किसी भी अधिकारी को गिरफ्तार या पूछताछ नहीं कर सकती। हालांकि कानून एक्सपर्ट का कहना भी यही है कि इस मामले में सीबीआई को राज्य सरकार के किसी भी अधिकारी या कर्मचारी से पूछताठ के पहले राज्य सरकार से परमिशन लेनी होती है और अगर राज्य सरकार इस मामले में इजाजत न दे तो फिर कोर्ट की शरण में जाया जा सकता है । विपक्षी दलों ने सीबीआई के बहुत इस्तेमाल का आरोप लगाकर संसद ठप कर दी. सीबीआई इस विवाद को लेकर आज सुप्रीम कोर्ट पहुंची लेकिन सुप्रीम कोर्ट ने इस मामले को मंगलवार के लिए टाल दिया है..इस मामले को विस्तार से जानते है ..कोलकाता पुलिस कमिश्नर राजीव कुमार के घर 3 फरवरी, 2019 को देर शाम सीबीआई की टीम छापा मारने पहुंची. इस पर सीबीआई टीम और कोलकाता पुलिस के बीच कथित तौर पर हाथापाई हो गई. पुलिस ने सीबीआइ अधिकारियों से वारंट दिखाने को कहा. और उन्हें पार्ट स्ट्रीट स्थित कमिश्नर आवास के अंदर जाने से रोक दिया. फिर सीबीआई की टीम के 5 अफसरों को हिरासत में ले लिया और शेक्सपियर सरणी थाने ले आई. विवाद बढ़ने पर उनको छोड़ दिया गया. राजीव कुमार पर आरोप है कि साल 2013 में हुई एसआईटी जांच में शारदा चिटफंड घोटाले के सबूतों से छेड़छाड़ की गई है. एसआईटी जांच राजीव कुमार की अगुवाई में की गई थी. सीबीआई की इस कार्रवाई पर सूबे की सीएम ममता बनर्जी ने कड़ा ऐतराज जताया. उन्होंने मोदी सरकार के खिलाफ मार्चाे खोलते हुए मेट्रो चौनल के पास धरना शुरू कर दिया. ये धरना 3 फरवरी की रात भी जारी रहा. ममता ने आरोप लगाया कि सीबीआई मोदी सरकार के कहने पर ये पूरा खेल कर रही है. सुरक्षा को ध्यान में रखते हुए कोलकाता में सीबीआई दफ्तर के बाहर सीआरपीएफ की टुकड़ियां तैनात कर दी गई हैं. ममता बनर्जी ने सूबे में सीबीआई की एंट्री पर रोक लगा रखी है.वहीं अब इस मामले में विपक्षी दलों ने भी अपनी दखलअंदाजी दे दीहै। कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी से लेकर तेलुगुदेशम पार्टी अध्यक्ष चंद्रबाबू नायडू, दिल्ली के सीएम अरविंद केजरीवाल, सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव और बसपा सुप्रीमो मायावती तक सब ममता बनर्जी के समर्थन में आ गए. अब इस मामले ने लोकसभा से पहले इस मामले ने तूल पकड़ लिया है और अब इसकी आग पूरे पश्चिम बंगाल को लपटों में ले लेगी ।