प्राइम टाइम

प्रदेश में जारी है "शुद्ध के लिए युद्ध"

Posted by Divyansh Joshi on



देश में खाने पीने की चीजों में मिलावटी, बेमेल ब्रांड और घटिया गुणवत्ता के मामले बढ़ते जा रहे हैं। तेल, घी, दूध, मावा, मिर्च मसाले, आटा, दाल सहित खाने पीने की लगभग हर चीज में मिलावट है। वहीं, कंपनियों के उत्पाद भी गुणवत्ता के पैमाने पर खरे नहीं उतर रहे हैं। इसे लेकर विश्व स्वास्थ्य संगठन भी चिंता जता चुका है। डब्ल्यूएचओ की विश्व खाद्य सुरक्षा दिवस से पहले जारी की गई रिपोर्ट के मुताबिक मिलावटी और घटिया भोजन की वजह से दुनिया में हर साल चार लाख बीस हजार लोगों की मौत होती है। इसके साथ हर साल लगभग 60 करोड़ लोग मिलावटी खाना खाने से बीमार पड़ते हैं। इन सबके बीच मध्यप्रेदश की कमल नाथ सरकार ने मिलावट खोरो के खिलाफ शुद्ध के लिए युद्ध अभियान शुरू कर जनता को बड़ी राहत दी है l प्रदेश में मिलावट के प्रतिदिन के ख़ुलासे से मिलावट की भयावह तस्वीर सामने आती जा रही है। किस प्रकार थोड़े से स्वार्थ व मुनाफ़े की ख़ातिर लोगों के स्वास्थ्य के साथ जमकर खिलवाड़ किया जा रहा है। लेकिन आश्चर्य इस बात का है कि इस गौरखधंधे को रोकने के लिये कोई ठोस प्रयास पहले नहीं हुए।