राज्य

एम.पी.लाइव

Posted by khalid on



मुख्यमंत्री श्री कमल नाथ ने श्रीकृष्ण जन्माष्टमी पर प्रदेशवासियों को बधाई और शुभकामनाएं दी हैं। मुख्यमंत्री ने शुभकामना संदेश में कहा कि भगवान श्रीकृष्ण सत्य, न्याय और धर्म के रक्षक हैं। श्री कमल नाथ ने श्रद्धालु नागरिकों से आग्रह किया कि वे भगवान श्रीकृष्ण की दिव्य वाणी और अद्भुत लीलाओं से प्रेरणा लेकर सत्य, न्याय और धर्म का साथ देने का संकल्प लें।

राज्यपाल और कुलाधिपति श्री लालजी टंडन ने आज राजभवन में शासकीय विश्वविद्यालयों के कुलपतियों से चर्चा करते हुए कहा कि विश्वविद्यालय गुणवत्तापूर्ण शिक्षा और परिसर की उत्कृष्टता को सर्वोच्च प्राथमिकता दें। उन्होंने शैक्षणिक गुणवत्ता के लिए समय-सीमा तय कर रिक्त पदों की पूर्ति, स्वच्छ और हरा-भरा परिसर विकसित करने, समृद्ध पुस्तकालय और आधुनिक प्रयोगशालाओं की व्यवस्था करने के लिए कहा।

लोक स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्री श्री तुलसीराम सिलावट ने नई दिल्ली में मेदांता हॉस्पिटल में डॉ. नरेश त्रेहान से मुलाकात की। श्री सिलावट ने मध्यप्रदेश मेँ नागरिकों को विशेषज्ञों की स्वास्थ्य सेवाएँ उपलब्ध कराने के बारे में चर्चा की। डॉ. त्रेहान ने मध्यप्रदेश में मेदान्ता हॉस्पिटल की विशेषज्ञ स्वास्थ्य सेवाएँ उपलब्ध कराने पर सहमति व्यक्त की l

महिला-बाल विकास मंत्री श्रीमती इमरती देवी बुधवार को अचानक ग्वालियर जिले के घाटीगाँव एवं भितरवार क्षेत्र के आँगनवाड़ी केन्द्रों पर पहुँची। केन्द्र में आँगनवाड़ी कार्यकर्ता और सहायिका को कर्त्तव्यों के प्रति लापरवाही बरतने पर तुरंत हटाने के निर्देश दिए। मंत्री श्रीमती इमरती देवी ने लगभग 12 आँगनवाड़ी केन्द्रों का आकस्मिक निरीक्षण किया। आँगनवाड़ी केन्द्रों में बच्चों से मिली, बातचीत की और उन्हें दिये जा रहे मध्यान्ह भोजन को चखकर क्वालिटी परखी।

पंचायत एवं ग्रामीण विकास मंत्री श्री कमलेश्वर पटेल ने कहा है कि ग्रामीण क्षेत्रों में अधोसंरचना विकास के लिए इस वर्ष 7 हजार 828 करोड़ की राशि उपलब्ध कराई जाएगी। यह राशि गत वर्ष की तुलना में एक हजार 49 करोड़ अधिक है। उन्होंने बताया कि यह राशि ग्राम पंचायतों के माध्यम से व्यय की जाएगी।

मुख्य सचिव श्री एस.आर. मोहन्ती ने मंत्रालय में मध्यप्रदेश समग्र शिक्षा अभियान की कार्यकारिणी समिति की बैठक में कहा कि शालाओं में शिक्षकों की उपस्थिति का विशेष ध्यान रखने को कहा है। उन्होंने शालाओं से अनुपस्थित रहने या अपने दायित्व के प्रति लापरवाह शिक्षकों पर कठोर कार्यवाही और शालाओं में चल रहे विशेष कॉपी चेकिंग अभियान का भी कड़ाई से पालन करने के निर्देश दिए हैं।