व्यक्तित्व

जंगल में जैन साधुओं का आहार

Posted by Divyansh Joshi on



आचार्य विशुद्ध सागर जी अपने संघ के साथ पद बिहार कर रहे हैं रास्ते में उन्हें श्रद्धालुओं द्वारा आहार दिया गया आहार के लिए जाते हुए मुनि और आहार लेते हुए आचार्य विशुद्ध सागर महाराज जैन साधु 24 घंटे में एक बार आहार एवं जल ग्रहण करते हैं आहार संकल्प लेकर किया जाता है जैन साधु करपात्री होते हैं आहार और जल लेते समय किसी बर्तन का उपयोग नहीं होता है