राज्य

एम.पी.लाइव

Posted by khalid on



उज्जैन में महाकालेश्वर मन्दिर क्षेत्र का विकास बनारस के काशी विश्वनाथ मन्दिर के विकास की तर्ज पर किया जाएगा। आगामी अप्रैल माह तक रूद्र सागर में मिलने वाले गन्दे पानी को रोक दिया जाएगा। मुख्यमंत्री श्री कमल नाथ के निर्देश पर प्रदेश के तीन कैबिनेट मंत्री श्री सज्जन सिंह वर्मा, श्री पी.सी. शर्मा एवं श्री जयवर्द्धन सिंह की उज्जैन में जन-प्रतिनिधियों और पुजारियों के साथ हुई उच्च-स्तरीय बैठक में यह निर्णय लिया गया। बैठक में लगभग 300 करोड़ के कार्यों पर प्रारम्भिक सहमति व्यक्त की गई।

पिछले दिनों इंदौर के निजी हास्पिटल-इंदौर आई हास्पिटल में ऑपरेशन के बाद तेरह मरीज की आँखों की रौशनी चली गई थी। मंत्री श्री सिलावट ने इंदौर के चौइथराम हास्पिटल पहुँच कर मरीजों के इलाज की व्यवस्थाओं की जानकारी ली। उन्होंने मरीजों से मिल कर उनके स्वास्थ्य के संबंध मेँ चर्चा की मंत्री श्री सिलावट ने शंकर नेत्रालय के नेत्र रोग विशेषज्ञ डॉ. राजीव रमन को इंदौर आकर इलाज करने के महत्वपूर्ण योगदान के लिये राज्य सरकार की ओर से सम्मान पत्र भेंट कर सम्मानित किया। चौइथराम हास्पिटल से 4 मरीज को डिस्चार्ज कर दिया गया l उपचारत 4 मरीज को कल डिस्चार्ज किया जायगा। वही शंकर नेत्रालय, चैन्नई मेँ 5 मरीज का इलाज चल रहा हैल

देश की राजधानी में मध्य-प्रदेश पुलिस राष्ट्रीय स्तर के पुरस्कारों से सम्मानित हुई है। व्यापार एवं उद्योग जगत की देश की प्रमुख संस्था फिक्की ने स्मार्ट पुलिसिंग अवार्ड्स- 2019 की चार श्रेणियों में मध्यप्रदेश पुलिस को एवार्ड दिए हैं । नई दिल्ली में केन्द्रीय राज्य मंत्री श्री जितेन्द्र सिंह ने ये पुरस्कार प्रदान किए।

पर्यावरण नियोजन एवं समन्वय संगठन (एप्को) द्वारा प्रदेश में विद्यालयीन एवं महाविद्यालयीन स्तर पर ग्रीन गणेश अभियान में कार्यशालाएँ आयोजित की जा रही हैं। इसमें पिछले 13 अगस्त से अब तक 5 हजार से अधिक विद्यार्थियों, शिक्षकों और नागरिकों को मिट्टी के गणेश बनाने का प्रशिक्षण दिया गया। एप्को ने इस वर्ष 10 हजार परिवारों को ग्रीन गणेश स्थापित कर घर पर ही विसर्जित करने के लिये जागरूक किये जाने का कार्यक्रम बनाया है।

प्रदेश में इस वर्ष मानसून में एक जून से 23 अगस्त तक 25 जिलों में सामान्य से अधिक, 20 जिलों में सामान्य एवं शेष जिलों में सामान्य से कम वर्षा दर्ज हुई है। सर्वाधिक वर्षा मंदसौर जिले में और सबसे कम वर्षा सीधी जिले में दर्ज की गई है।