राज्य

Uttarakhand Live | Uttarakhand News-21-07-21 | EMS TV

Posted by Avneesh Rai on



ब्ड ने किया उत्तरकाशी के आपदा प्रभावित क्षेत्रों का दौरा
1
भारी बारिश के बीच मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी बुधवार को उत्तरकाशी के आपदा प्रभावित गांव मांडो और कंकराड़ी पहुंचे। उन्होंने आपदा प्रभावितों का हाल भी जाना। साथ ही प्रभावित मांडो गांव के विस्थापन की प्रक्रिया शुरू करने के जिलाधिकारी को निर्देश दिए।सीएम धामी ने उत्तरकाशी में मांडो गांव का स्थलीय निरीक्षण किया। इस दौरान उन्होंने आपदा में मारे गए लोगों के परिजनों से मुलाकात की और उन्हें सांत्वना दी।

2
संसद के मॉनसून सत्र में विपक्ष के निशाने पर केंद्र सरकार है. हाल ही में फोन हैकिंग मामले के खुलासे को लेकर विपक्ष एकजुट है और सरकार से जवाब मांग रहा है. वही उत्तराखंड के मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने कांग्रेस पर जम कर हमला किया और इसको कांग्रेस का चरित्र बताया, साथ ही कांग्रेस पर देश के विकास में हमेशा बाधा डालती है...ये कांग्रेस का इतिहास रहा है वो हमेशा देश के विकास में बाधा उत्तपन्न करती है,राजस्थान का मुद्दा उठाते हुए उन्होंने कहा कि उन्हीं के विधायकों ने उन पर आरोप लगाए हैं।

3
फ्त बिजली गारंटी कार्ड योजना के तहत आज आम आदमी पार्टी बद्रीनाथ की टीम ने अभियान को आगे बढ़ाते हुए सीमांत जोशीमठ ब्लॉक में कार्यकर्ताओं को जिम्मेदारी देते हुए गांव की तरफ रवाना किया गया साथ ही कैनोपी लगाकर जोशीमठ मार्केट में गारंटी कार्ड वितरण किए जिसके तहत कई लोगों ने आकर अपना रजिस्ट्रेशन कराया तथा गारंटी कार्ड बनवाया
4
एक तरफ जंहा ईद के त्योहार पर शहर में साफ सफाई का विशेष ध्यान दिया जाता है जसपुर नगरपालिका में ठेके प्रथा पर तैनात सफाई कर्मचारियों ने देव भूमि उत्तराखंड सफाई कर्मचारी संघ के बैनर तले अपनी मांगों को लेकर कार्य वहिष्कार कर दिया है जिससे जसपुर शहर में सफाई व्यवस्था चरमरा गई है

5
पौड़ी में समस्त सफाई कर्मचारियो के हड़ताल में जाने से शहर की सफाई व्यवस्था अब पूरी तरह से चरमरा गई है, आलम ये है कि यहां बाजारों में गन्दगी का अंबार लगा हुवा है जो लोगो की दिक्कतों को बढ़ा रहा है शहर की मुख्य सड़कों में छाई गन्दगी बीमारियो के खतरे को इस बरसाती सीजन में इन दिनों खुला न्योता भी दे रही है जिससे जनता का सड़को पर निकलना तक इन दिनों दुबर हो रहा है, वहीं सफाई का जिम्मा सभाले नगर पालिका भी सफाई कर्मचारियो के हड़ताल में चले जाने से कोई और वैकल्पिक व्यवस्था जुटाने में नाकाम ही सिद्ध हो रहा है