राज्य

प्रदेश एक्सप्रेस

Posted by khalid on





1
विधानसभा के शीतकालीन सत्र का चौथा दिन भी काफी हंगामेदार रहा । सदन की कार्रवाई शुरू होते ही पक्ष और विपक्ष में तीखी नोंकझोंक हुई|हंगामे के बीच अनुपूरक बजट पास हो गया । वहीं उपाध्यक्ष पद को लेकर पक्ष विपक्ष के बीच तीखी बहस हुई। हंगामे के बीच विधनसभा अध्यक्ष ने उपाध्यक्ष के पद पर हिना कांवरे को निर्वाचन करने की घोषणा की। विपक्ष के भारी हंगामें के बीच हिना कांवरे विधानसभा उपाध्यक्ष बनी| वहीं विपक्ष ने विधानसभा अध्यक्ष पर पक्षपात के आरोप लगाते हुए उपाध्यक्ष चयन प्रक्रिया को अलोकतांत्रिक बताया और जमकर नारेबाजी की । जिसके बाद विधानसभा अनिश्चितकालके लिए स्थगित कर दी गई।

2
बीजेपी कांग्रेस और दूसरे विधायकों को लालच देकर अपनी तरफ ला सकती है ।बीजेपी द्वारा लगातार विधायकों को खरीदने की कोशिश की जा रही है, लेकिन हमें प्रदेश में विकास का काम करना है।हम विपक्ष के सहयोग से बेहतर काम करना चाहते हैं। हम मध्यप्रदेश को एक नया मॉडल देना चाहते है।आज सोच व नज़रिये में परिवर्तन की ज़रूरत है।

3
कैग की रिपोर्ट में खुलासा हुआ है कि मध्य प्रदेश में शिवराज सरकार के दौरान प्रदेश में करोड़ों रुपए का घोटाला किया गया हैण् वाणिज्यिक करए उत्पाद शुल्कए वाहन करए स्टॉम्प पंजीकरण शुल्कए खननए जल कर में ये घोटाला किया गयाण् इस वजह से प्रदेश के सरकारी ख़ज़ाने को कुल मिलाकर 6270 करोड़ का नुकसान हुआण्

4
विधानसभा का शीतकालीन सत्र समय से पहले ही समापत हो गया| सत्र के चौथे दिन भारी हंगामे के बीच बालाघाट जिले की विधायक हिना कांवरे मध्यप्रदेश विधानसभा के उपाध्यक्ष चुन ली गईं। सत्ता परिवर्तन के बाद पहले ही सत्र में सदन में पक्ष और विपक्ष के बीच कड़वाहट देखने को मिली | इस दौरान दोनों ही तरफ से आरोप प्रत्यारोप का दौर शुरू हो गया है| इस बीच विधानसभा में पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान के खिलाफ विशेषाधिकार भंग की सूचना दी गई है। विशेषाधिकार भंग की सूचना में कांग्रेस विधायकों का आरोप है कि पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने विधानसभा अध्यक्ष को डॉन कहा है|

5
मध्य प्रदेश में 13 साल मुख्यमंत्री रहे शिवराज सिंह चौहान भले ही अब सत्ता में न हो लेकिन विपक्ष में रहते हुए भी उनकी नजर चारो तरफ है और सरकार को घेरना का एक मौका भी छोड़ना नहीं चाहते| हाल ही में कर्जमाफी की घोषणा को लेकर सरकार पर घेराबंदी करने के लिए शिवराज ने लगातार हमले बोले थे अब स्वास्थय व्यवस्थाओं को लेकर उन्होंने सरकार को चेतावनी दी है कि हम सरकार को ऐसे चैन से बैठने नहीं देंगे। पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने ट्वीट कर कमलनाथ सरकार पर निशाना साधा

6
अपने बयानों को लेकर सुर्खियों में रहने वाले भाजपा महासचिव कैलाश विजयवर्गीय ने फिर बड़ा बयान दिया है। विजयवर्गीय ने कहा कि कार्यकर्ताओं को डरने और घबराने की जरूरत नहीं है। कोई माई का लाल नहीं, जो हमें हाथ लगा ले। विपक्ष में आ गए हैं तो क्या यह सरकार हमारी कृपा से चल रही है। कमलनाथ की सरकार 5 साल नहीं चलेगी। जिस दिन ऊपर से बॉस का इशारा हो जायेगा उस दिन सरकार गिर जाएगी।